WEBSITE Traffic Kaise Badhaye |Paid And Free Ways|

Website traffic kaise badhaye:- 

क्या आप भी अपनी वेबसाइट के बहुत ही सिमित ट्रैफिक से तंग आ चुके है। या फिर आप ने भी वो सभी तरिके आजमाकर देख लिए है जो एक साधारण ब्लॉगर आजमाता है। लेकिन फिर भी वेबसाइट पर ट्रैफिक नहीं आ रहा है। तो अब सायद आप सोच रहे होंगे की अब क्या करू?

तो दोस्तों आपको चिंतित होने की बिलकुल भी आवस्य्क्ता नहीं है। क्योकि इस आर्टिकल के माध्यम से मैं आपको उन सभी तरीको के बारे में बताऊंगा जो आपकी वेबसाइट पर भर-भर कर ट्रफिक प्रदान करेगा।

हर कोई अपनी वेबसाइट को आय-जनित-सम्पति में बदलना चाहता है। क्या यह सच है? जी हां बिलकुल। क्योकि हर कोई अपनी वेबवसीते पर कार्य एक इनकम के लिए ही करता है, वह चाहे किसी भी रूप मतलब प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से हो।

तो ऐसे में किसी भी वेबसाइट की कमाई और कामयाबी दोनों उस वेबसाइट पर आने वाले ट्रैफिक पर निर्भर करती है।

मैं आपको इस आर्टिकल में वे सभी तरिके बताऊंगा फ्रेंड्स जिनसे की आप अपनी वेबसाइट पर तुरंत ट्रैफिक ला सकते है है जिनमे से कुछ तरिके बिलकुल फ्री है और कुछ पेड है।
यदि आप इन तरीको का उपयोग बहुत सावधानी से और सही ढंग से करते है तो आपको बहुत ज्यादा फायदा होने वाला है।

तो चलिए दोस्तों चरण-दर-चरण उन तरीको के बारे जानते है की Website traffic kaise badhaye -

SEO के द्वारा Website traffic kaise badhaye  

#1| On-Page SEO में सुधार करे  

अपने खोज परिणामो को बेहतर बनाने के लिए सही SEO रणनीतियों एवं targeted keywords का उपयोग करने के लिए सर्वोत्तम अभ्यास कीजिये। और बेहतर का प्रयाश लगातार जारी रखे।

अपने वेबसाइट के On-Page SEO के लिए Keyword Research और वेबसाइट की सामग्री के लिए सही अनुकूलन के माध्यम से में सुधर कर सकते है।

उदहारण के लिए, आप कर सकते है,

  • SEO title में keyword को अनुकूल करे।
  • ब्लॉग में प्रयोग की जाने वाली इमेज के लिए कीवर्ड का प्रयोग करना ताकि सर्च इंजन को उस इमेज के बारे में ज्ञात हो सके।
  • अपने यूआरएल को SEO फ्रेंडली बनाने के लिए अनुकूल करे।
  • अपने कीवर्ड को Meta Description में प्रयोग करे
  • आर्टिकल के हैडलाइन में अपने मुख्य कीवर्ड का प्रयोग करे, इत्यादि

Google के Algorithms Fadctors इन सभी Ranking Criteria से पहले यह तय करता है की आपकी सामग्री को कैसे रैंक किया जाय।

On-Page SEO को रैंकिंग के लिए अनुकूल करने के लिए, Yoast SEO प्लगइन का इस्तेमाल कर सकते है एवं Ahrefs या Hubspot के टूल्स का प्रयोग भी कर सकते है।

#2| Research New Keyword  

जब भी आप किसी ब्लॉग पोस्ट लिखने जा रहे हैं तो शुरू करने से पहले आप एक बार Keyword Research जरूर करें|

क्योंकि जब भी आप अपनी ब्लॉग पोस्ट को लिखना शुरू करते हैं, उससे पहले आपको यह जरूर पता होना चाहिए कि आपके द्वारा लिखे जाने वाले ब्लॉगपोस्ट से संबंधित लोग क्या सर्च कर रहे हैं?

इससे आपको फायदा यह होगा कि आप अपने ब्लॉग पोस्ट को लोगों द्वारा सर्च किए जाने वाले कीवर्ड के अनुसार अनुकूल कर सकते हैं| इससे लोगों द्वारा सर्च की जाने वाली क्वेरीज के अंदर आपका कीवर्ड रैंक होगा और इससे आपको ट्रैफिक मिलने की संभावना बढ़ जाती है|

आपको अपने आप से कुछ इस तरह के प्रश्न पूछना बेहद आवश्यक है, जैसे की -

  • लोग क्या सर्च कर रहे है?
  • लोग किस तरह से सर्च कर रहे है?
  • वे किस तरह से जानकारी चाहते है?
  • किस समय में किस तरह के कीवर्ड अधिक सर्च किये जाते है?

जैसा कि आप जानते हैं जिस वर्ड का सर्च वॉल्यूम अधिक होगा, उस पर रैंक करना भी उतना ही मुश्किल होता है| क्योंकि जिसको लोग अधिकर करते हैं उसकी वर्ड पर पहले से ही बहुत सारे ब्लॉग पोस्ट उपलब्ध होते हैं| तो ऐसे में प्रतिस्पर्धा बढ़ जाती है, और आपको वहां रैंक करने के लिए और अधिक प्रयास करने पड़ते हैं|

इसीलिए ब्लॉक पोस्ट लिखने के लिए आपके लिए यह जरूरी हो जाता है कि आप ऐसे कीवर्ड को खोज को खोजें जिनका सर्च वॉल्यूम अधिक हो और SEO के तौर पर बहुत कम काम किया गया हो| जिससे कि आपको आसानी से एक अच्छी रैंकिंग मिल सके|

#3| Keyword By Competitor

किसी भी कीवर्ड पर कार्य करने से पहले आपको यह जानना बहुत जरुरी है की उस कीवर्ड पर आपके प्रतिद्वंदी ने कितना कार्य किया है। कहने का मतलब है कि आपको उसकी keyword पर Rank करने के लिए कितना SEO करना पड़ेगा और कितने Words का आर्टिकल डालना होगा, जिससे कि आपको उससे अधिक रैंकिंग मिल सके|

Competitor Research से आपको यह जानकारी होगी कि आपके प्रतिद्वंदी ने किन कीवर्ड्स पर कार्य नहीं किया है जिससे कि आप उनसे पहले उनकी कीवर्ड्स पर अपना ब्लॉग पोस्ट करें, ताकि आपको बिना किसी परेशानी के उनसे पहले Ranking मिल सके|

#4| Use Long Tail Keywords 

आप चाहे किसी भी प्रकार की इंडस्ट्री या कहें कि किसी भी विषय पर ब्लॉग पोस्ट करते हैं|

एक बात का विशेष ध्यान रखें कि आप अपने विषय से संबंधित ऐसे छोटे की वर्ड का प्रयोग ना करें जो जिन पर बहुत अधिक कॉन्पिटिशन है|

जैसे कि मैं बात करूं डिजिटल मार्केटिंग पर अगर कोई नया ब्लॉग है तो उसके लिए डायरेक्ट Digital Marketing कीवर्ड के लिए Rank करना बहुत मुश्किल है| तो ऐसे में वह Digital Marketing Keyword के लिए Rank करने की बजाय यदि Scope Of Digital Marketing के लिए ब्लॉग लिखता है, तो कीवर्ड पर Rank करने की सम्भावना अधिक होती हैं| क्योंकि इस प्रकार के कीवर्ड पर डायरेक्ट कीवर्ड के बजाय कंपटीशन बहुत कम हो जाता है, और Ranking के चांस बढ़ जाते हैं|

#5| हर महीने कुछ अच्छे Guest Blog Post करे

Guest Blogging किसी भी वेबसाइट के लिए लिंक निर्माण का एक बहुत अच्छा कार्य है| आपकी वेबसाइट पर ट्रैफिक लाने का एक अच्छा जरिया है| और जो लिंक आपकी वेबसाइट पर जाता है उसे आपकी वेबसाइट के लिए Backlink माना जाता है| आज से कई वर्षों पहले से ही यह काफी प्रचलित है|

गेस्ट ब्लॉगिंग एक तरह की कंटेंट मार्केटिंग और SEO तकनीक है जिसमें कोई भी राइटर किसी भी थर्ड पार्टी वेबसाइट या ब्लॉग पर अपने पर्सनल ब्रांड को बढ़ावा देने के लिए अपना ब्लॉग पोस्ट को पब्लिश करता है| किसी भी वेबसाइट को उजागर करने के लिए या किसी भी वेबसाइट के लिए जल्द और अधिक संख्या में ट्रैफिक लाने का एक बहुत ही अच्छा माध्यम हो सकता है| लेकिन गेस्ट ब्लॉगिंग आपको सर्च इंजन के नियमों को ध्यान में रखते हुए बहुत ही चतुराई पूर्वक यह कार्य करना होता है, ताकि आप सर्च इंजन की पेनल्टी का आपकी वेबसाइट पर कोई भी प्रभाव ना पड़े|

गेस्ट ब्लॉगिंग शुरू करने से पहले आपको यह जानना बहुत जरूरी है कि आपका लक्ष्य क्या है? समय से पहले यह जानना बहुत आवश्यक है| क्योंकि आपके Blog के लिए बहुत फायदेमंद होगा| इससे आपको अपने ब्लॉग को एक सही दिशा में ले जाने के लिए एक सही मार्ग का पता चलेगा| आमतौर पर गेस्ट ब्लॉगिंग के तीन मुख्य लक्ष्य होते हैं-

  1. अपने आप को एक उद्योग में एक प्रसिद्ध नाम के रूप में स्थान देना|
  2. अपनी वेबसाइट पर ट्रैफिक प्राप्त करना|
  3. अपनी वेबसाइट के लिए बैंक लिंक का निर्माण करना|

Guest Blogging के माध्यम से आप तीनों चरणों को अच्छे से पूरा कर सकते हैं| यदि आप पहले और दूसरे चरणों को पूरा करना चाहते हैं तो आपको यह कोशिश करनी चाहिए कि आप उन लोगों को ढूंढे जिनमें एक अच्छा आकार और दर्शक हो| और यदि आप तीसरे चरण को पूरा करना चाहते हैं तो इसके लिए आपको एक Strong Root Domain Authority के साथ अपने ब्लॉग पोस्ट को इंगित करना होगा|

अब बहुत सारे प्रश्न होते हैं कि-

  • गेस्ट ब्लोगर कौन होते हैं?
  • गेस्ट ब्लॉगिंग कैसे करें?
  • अन्य लोग गेस्ट ब्लॉगिंग कैसे करते हैं?
  • तुम्हें गेस्ट ब्लॉगिंग क्यों करनी चाहिए?
  • गेस्ट ब्लॉगिंग कैसे जमा करें?

- जैसे प्रश्नों का उत्तर जानने के लिए यहां जाकर (Guest Blogging के बारे में विस्तार से जानिये )  गहराई में पढ़ सकते हैं|

निश्चित रूप से गेस्ट ब्लॉग्गिंग में आमतौर पर प्रश्न में दो वेबसाइट के बिच किसी प्रकार का आदान प्रदान होता है। यह एक पूर्ण लिंक बनाने में बहुत सहयक है।

हर महीने कुछ अच्छी गेस्ट पोस्ट करना आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। यह केवल इतना नहीं है की आप केवल 100-200 पढ़कर ही इसे समझ जायँगे। बल्कि इसे समझने के लिए आपको और भी बहुत कुछ जानने की आवस्यकता है।

इसीलिए आप ऊपर दिए गए इस लिंक पर जाकर इसके बारे में और भी गहरा अध्यन्न कर सकते है। जिसे पढ़ने के बाद आप अपनी वर्तमान प्रतिक्रियाओं को अनुकूल कर सकते है।

एक बात का विशेष ध्यान रखे की बहुत सी वेबसाइटों में गेस्ट पोस्ट सबमिशन दिशानिर्देश होते हैं। इसलिए, यदि आप किसी लिंक को लैंड करना चाहते हैं तो प्रत्येक वेबसाइट के दिशा-निर्देशों का ध्यानपूर्वक पालन करें।

#6| साधारण लिंक बिल्डिंग 

साधारण लिंक बिल्डिंग से अभिप्राय है की जब भी कोई अन्य वेबसाइट, ब्लॉगर या आपकी niche से सम्बंधित कोई भी आर्टिकल में अगर आपके कंटेंट को लिंक करता है तो वह साधारण लिंक बिल्डिंग में आता है।

2003 के बाद जब से गूगल ने अपनी अल्गोरिथ्म्स में बदलाव किये है तब से ये नियम निश्चित रूप से पूरी तरह बदल चुके है। और जिन लोगो ने इन बदलते नियमो के साथ के अनुसार नहीं सिख पाय अंत में उन्हें अपनी उन पुराणी लिंक बिल्डिंग ट्रिक्स को छोड़ना पड़ा।

स्वयं गूगल ने भी इस बात की पुस्टि की है की लिंक बिल्डिंग के बिना रैंकिंग पाना वास्तव में भुगत कठिन है। Google Core Algorithm लिंक पर आधारित है और यह गूगल की स्थापना के बाद अभी तक नहीं बदला है।

लिंक बिल्डिंग पिछले कई वर्षो से मृत है, ऐसा उन लोगो के लिए है जो लगातार बदलते नियमो और कौशल, tools , details /विवरण, perseverence /दृढ़ता पर आव्सय्कताओ में वृद्धि करने में विफल है।

लिंक बिल्डिंग क्यों महत्वपूर्ण है

  • क्योकि लिंक गूगल के #1 रैंकिंग करक है।
  • क्योकि लिंक एक प्रकार का WEB है।
  • क्योकि लिंक एक यूजर को उत्तम जानकारी तक ले जाने में सहयक है।(जिसे गूगल सबसे अच्छा मानता है)
  • लिंक के द्वारा एक दूसरे में power का आदान प्रदान होता है।
  • लिंक आपस में एक विश्वास उत्पन करते है।
  • गूगल ने स्वयं इस बात की पुस्टि की थी की बिना लिंक के किसी भी वेबसाइट को खोजना बेहद मुश्किल होगा।मार्च 2016 , में गूगल से सम्बंधित समारोह में Google के Search Quality Senior Stratigist, Andrey Lipattsev ने कहा की पहले दो रैंकिंग कारक लिंक और सामग्री है।

2017 में Stone Temple द्वारा किये गए एक केस स्टडी ने फिर यह साबित कर दिया की लिंकिंग रैंकिंग के लिए एक बहुत ही शक्तिशाली करक बने हुए है। और आगे आने वाले समय में कई वर्षो तक ऐसा होने वाला है की लिंकिंग आपकी रैंकिंग को बहुत अधिक प्रभावित करने वाली है।

अब और भी बहुत सारे सवाल आपके मन में आ रहे होंगे जैसे की -

  • क्यों लिंक #1 रैंकिंग कारक है?
  • सभी लिंक सामान है या नहीं? अगर नहीं, तो क्यों नहीं?
  • सरल और एडवांस लिंक बिल्डिंग रणनीतियां कौन सी है?
  • एक अच्छी सामग्री के साथ कैसे लिंक करे?
  • और क्यों केवल लिंक निर्माण अच्छी तरह से रैंकिंग पाने के लिए पर्याप्त नहीं है?

#7| ऐसे ब्लॉग लिखे जिसे लोग एक दूसरे से शेयर करना चाहे और लिंक निर्माण करना चाहे|

किसी भी Article Content Quality के बारे में आपके क्या विचार है?

आप अपने विचार निचे कमेंट बॉक्स में लिख सकते है। यहां मै आपको बताता हूँ की कंटेंट कितना महत्वपूर्ण है?

जितना एक आर्टिकल का SEO करना जरुरी है उतना ही जरुरी उस आर्टिकल के कंटेंट का बहुत अच्छा होना है। अच्छा होने से अभिप्राय है की उस आर्टिकल में जिस चीज के बारे में आप बताना चाह रहे है, उसके बारे में एक Proper और स्टिक जानकारी प्रदान करे।

किसी भी प्रकार की अधूरी या गलत जानकारी प्रदानं न करे। जितना आप अच्छा कंटेंट अपने फोल्लोवेर्स को प्रदान करोगे Follower's Trust आपके प्रति उतना ही अधिक होगा जिससे की वे उस जानकारी को अन्य लोगो के साथ शेयर भी करना चाहेंगे।

एक बात तो आप भी जानते है की एक अच्छे कंटेंट की इंटरनेट पर आज भी जरुरत है। फिर चाहे ब्लॉग्गिंग ही नहीं चाहे किसी भी क्षेत्र में कितनी भी जानकारी पहले से मौजूद हो लेकिन एक अच्छे और जानकारी से परिपूर्ण कंटेंट की हमेशा डिमांड रहती है।

और यदि आपका कंटेंट बहुत अच्छा है तो इससे आपको कई गुना अधिक फायदा होता है क्योकि ऐसे कंटेंट को लोग सोशल मीडिया पर भी शेयर करना पसंद करते है।

और सबसे जरुरी बात यह है की अगर आप किसी खास विषय पर लिखते है और उसे विषय पर आप बहुत अच्छा लिखते है तो एक समय ऐसा आएगा की लोग आप पर बहुत ज्यादा विश्वास करेंगे और आपके Blog/Content पढ़ने के लिए आपके नाम से सर्च करेंगे जिससे आपकी एक ब्रांड वैल्यू भी बनेगी।

और अगर हो सके तो अपने कंटेंट को और भी जानकारी से परिपूर्ण बनाना चाहते है तो उसमे उस कंटेंट से सम्बंधित videos भी जोड़ सकते है। और अगर ऐसा नहीं कर सकते है तो इसके लिए आप इन्फोग्राफिक का भी सहारा ले सकते है।
क्योकि Infographic एक ऐसी चीज है जो बहुत काम सब्दो में बहुत कुछ समझा देती है। और गूगल भी इस चीज को बहुत अच्छा मानता है।

अब बात आती है की Link Building की तो जैसा की मैंने ऊपर #6 में भी बताया की लिंक बिल्डिंग एक Quality Content के साथ करे। और ऐसा आप करते भी होंगे। तो अगर ऐसे में आपका कंटेंट बहुत अच्छा होगा तो अन्य लोग खुद आपके आर्टिकल को अपने आर्टिकल में लिंक करना चाहेंगे।

और एक सबसे जरुरी बात यह है की हर दिन बाजार में कोई न Article Rewriting Tools आ रहे है जिससे की आपको लिखने के लिए जरा भी मेहनत करने की आवस्य्क्ता नहीं होती। तो मै आपको बता दू की जितना आप इसे अच्छा मानते है गूगल की नजरो में यह उससे कही ज्यादा गलत और खतरनाक भी है।

क्योकि यह केवल उन सब्दो की जगह उनसे मिलते जुलते अन्य सब्दो का प्रयोग कर एक लेख प्रदान करता है। जिसके कारण पढ़ने में एक सही मीनिंग का आभाव नजर आता है। और इसे गूगल की भाषा में User Unfriendly कहा जाता है।

तो फ्रेंड्स ऐसे टूल्स का बहुत कम से कम या न ही करे तो बेहतर होगा। और और मेरा सुझाव यह है की आप अपनी पर्सनल वेबसाइट के लिए तो बिलकुल भी न करे।

#8| Infographic बनाये और प्रयोग करे

किसी भी जानकारी या कंटेंट को ज्यादा से ज्यादा बेहतर बनाने के लिए इन्फोग्राफिक का उपयोग किया जाता है। इन्फोग्राफिक बनाना भी एक कला है। क्योकि इन्हे इस ढंग से बनाया जाता है की आप अपनी बातो को सामने वाले को बहुत ही कम शब्दो में अच्छे ढग से समझा सको।

If you want to read more about benefits of infographic read shane barker’s guide of infographic.

ये देखने में शैक्षिक और मनोरंजक दोनों होते है। इन्फोग्राफिक ऐसे होने चाहिए जो दूर से ही पड़ने वाले का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करे।

इन्हे बनाने के बहुत सरे टूल्स होते है जिनका इस्तमाल करके आप बहुत अच्छे-अच्छे तैयार कर सकते है। और अपनी वेबसाइट ट्रैफिक को बढ़ा सकते है।

#9| Video Content का प्रयोग करे

बहुत सारे आकड़े बताते है की videos का उपयोग करने वाले कंटेंट ने या फिर जिन Marketers ने वीडियोस का उपयोग किया उन्होंने हर मामले में अन्यो से अधिक राजस्व/Revenue स्थापित किया है।

और 92% ग्राहकों का कहना है की वीडियोस उनके लिए हर चीज को आसान बना देती है फिर चाहे वह किसी भी प्रकार की जानकारी लेने से सम्बंधित हो या कुछ खरीदने से सम्बंधित हो।

क्योकि आजकल के समय में वीडियो एक व्यक्तिगत जीवन का अविभाज्य अंग बन गया है। और Video Marketing के आकड़े बताते है की व्यापार को बढ़ावा देने के लिए वीडियो मार्केटिंग आज के समय में बहुत बड़ा उपकरण बन गया है।

खैर यह तो बात थी एक मार्केटिंग की, लेकिन अगर बात करे हम Googel के नजरिये से तो यह तो आपको भी मालूम है की गूगल हमेशा उसे ऊपर रैंकिंग देता है जो User Quary के अनुसार यूजर को सबसे अच्छी जानकारी प्रदान करता है।

इसीलिए हम अगर किसी भी जानकारी को पूर्ण रूप से यूजर को संतुस्ट करने के लिए हम उस जानकारी को वीडियोस के माध्यम से और बेहतर बना सकते है। क्योकि वीडियो कंटेंट को गूगल बहुत अच्छा मानता है।

#10| अपनी Niche से सम्बंधित इंटरव्यू जोड़े 

सायद यह चीज आपको थोड़ी अजीब लगे। लेकिन हां दोस्तों यदि आप अपनी Niche से सम्बंधित किसी प्रकार का कोई इंटरव्यू जोड़ते है| अपने कंटेंट में तो आपको बहुत फायदा होने वाला है। और यदि आप डिजिटल मार्केटिंग की niche पर ही काम कर रहे है तो यह आपके लिए सबसे ज्यादा फायदेमंद चीज होने वाला है।

क्योकि दोस्तों जब आप किसी बड़े marketer का इंटरव्यू लेते है तो वे लोग जो उसे फॉलो करते है वे तो आपको देखेंगे ही इसके साथ और भी बहुत सारे अन्य लोग आपके इंटरव्यू को देखने के लिए उत्सुक होंगे। और अगर कोई इंटरव्यू आपका बहुत अच्छा होता है तो वे मार्केटर्स भी आपके उस इंटरव्यू को अपने दर्शको के साथ साझा करेंगे।

अगर आप ऐसा करना चाहते है तो तो यहा आपके लिए एक टिप है: आप अपनी Niche से सम्बंधित अच्छे या बड़े लोगो को अवश्य जानते होंगे। अगर नहीं जानते है तो पहले उनके बारे में जानिए।

फिर सोशल मीडिया पर अपनी niche में ईमेल या किसी भी संपर्क के द्वारा उनसे साक्षात्कार के लिए अनुरोध कीजिये।

फिर अपने इंटरव्यू के लिए एक सोची-समझी रणनीति तैयार कीजिये और प्रश्नो से सम्बंधित एक सामग्री तैयार कीजिये।

और इस तरह से आप एक अच्छा और बेहतरीन सखात्कर लेने में सफल हो सकेंगे। और वह लोगो के लिए बहुत उपयोगी भयउ सिद्ध होगा। और लोगो का भरोषा जितने में आप एक सफल व्यक्ति बन सकेंगे।

#11| हर सप्ताह नई सामग्री वेबसाइट पर डाले 

किसी भी ब्लॉग के कीवर्ड्स की रैंकिंग उसके द्वारा डेल जाने वाले कंटेंट, एवं उसके तौर तरीको, समय की रणनीति आदि पर भी निर्भर करती है। आप जितनी अधिक सामग्री बहुत काम समय में एक रणनीति के तहत अपने ब्लॉग पर डालते है तो यह भी आपके कीवर्ड की रैंकिंग में इजाफा करने में बहुत सहयक होते है।

इसके अलावा आप आने ब्लॉग पर अपनी उपस्थिति में सुधार करे अथवा उसे समय दे और अपने फोल्लोवेर्स को भी समय दे। उनके लिए एक निश्चित समय में एक अच्छा कंटेंट लिखे। क्योकि आप एक निश्चित समय अवधि के अनुसार ऐसा करते है तो वह आपक फोल्लोवेर्स के लिए बहुत ही अच्छा होता है और इससे आपके फोल्लोवेर्स के साथ सम्पर्क में भी रहते है जिससे की आपके ब्लॉग पर अधिक लोगो के आपने की सम्भावना बढ़ जाती है।

और यदि आप साप्ताहिक रूप से अच्छा लेख लिखने में असमर्थ है तो इसके लिए आप अपने लिए एक कंटेंट writer के द्वारा भीब इस काम को कर सकते है।

वास्तविक सामग्री के लिए एक रणनीति बनाना एवं एवं उसे लागु करना, वास्तव में आपके ब्लॉग के लिए सबसे महत्वपूर्ण कड़ियों में से एक है।

#12| जानकारी से परिपूर्ण लेख लिखे

जब भी कंटेंट लिखने की बात आती है तो उसमे सबसे ज्यादा लोगो को इसी चीज में कन्फूसिओं रहती है की कंटेंट की लेंथ होनी चाहिए।
और इस बारे में बहुत कुछ कहा जाता है की आपका आर्टिकल इतने शब्दो का होना चाहिए या बहुत लम्बा कंटेंट होना चाहिए।

इस मामले में आपको बहुत सारे अलग-अलग मत सुनने को मिलेंगे।

लेकिन अब सवाल आता है की कंटेंट की लेंथ कितनी होनी चाहिए?
तो होता यह है की आर्टिकल के कंटेंट की लेंथ केवल एक नहीं बल्कि कई करने से महत्वपूर्ण है।

सबसे पहला, की Google Length को अधिक पसंद करता है। एक QuikSprout सर्वे में पाया गया की गूगल के सर्वोत्तम परिणामो की लेंथ बहुत अधिक है।

एक वेब पेज की औसत सामग्री की लंबाई जो Google पर किसी भी कीवर्ड के लिए  सबसे पहले  10 परिणामों में रैंक करती है, उनमे कम से कम 2,000 शब्द हैं।

दूसरा, यह है की जब भी आप कोई चीज सर्च करते है तो आप महसूस करते होंगे की उसी एक कीवर्ड से जुड़े हर रिजल्ट की लेंथ का छोटा और एक जैसे मिलते जुलते रिजल्ट को आप पसंद नहीं करते।

तीसरा, यदि आप किसी भी विषय पर एक जानकारी से विस्तृत या विस्तार से समझने का प्रयाश कर रहे है तो स्वभाविक रूप से आपका कंटेंट बहुत लम्बा होने वाला है। और फिर भी आप बहुत काम शब्दो में इसे निपटने की कोशिश करेंगे तो और जरूर इसमें जानकारी का आभाव होने वाला है। जो की आपके लिए काफी नुकशानदेह हो सकता है।

चौथा लेकिन अंतिम नहीं, अपने पाठको को वास्तव में एक अच्छे और विश्वनीय एवं एक सही आसान भाषा में जानकारी प्रदान करे।

#13| Social Sharing का Button अवश्य बनाये 

जब भी आप कोई आर्टिकल लिखते है तो उसके साथ सोशल शेयरिंग का बटन होना बेहद आवश्यक है। क्योकि आज कल के समय में लोग सोशल मीडिया का प्रयोग बहुत ज्यादा करते है। तो जब भी वे कोई ऐसी जानकारी देखते है जो बहुत उपयोगी होती है तो वे उसे सोशल मीडिया पर share करना पसंद करते है।

सायद आप भी ऐसा करते होंगे। अगर नहीं करते है तो अब करना सुरु कर दीजिये। जो भी पोस्ट आप लिखते है उसे सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करे।

क्योकि गूगल भी इस चीज को बहुत अच्छा मानता है। अगर कोई पोस्ट अधिक से अधिक सोशल मीडिया पर शेयर की जाती है तो गूगल उसे बहुत अच्छे कंटेंट की नजरो से देखता है। और वास्तव में ऐसा होता भी है, क्योकि हम किसी भी पोस्ट को तभी शेयर करते है जब वह कंटेंट किसी न किसी दृश्टिकोण से अच्छा होता है। फिर चाहे वह मनोरंजन के दृश्टिकोण से हो या महत्वपूर्ण जानकारी के दृश्टिकोण से।

और सबसे बड़ी बात की इसके लिए आपको किसी भी प्रकार के अन्य खर्च की कोई आवस्य्क्ता नहीं होती। आप किसी भी एक Free Plugin के द्वारा सोशल शेयरिंग के बटन को ऐड कर सकते है।

यह आपकी Website Ranking को वास्तविक रूप से बढ़ा सकता है।

#14| अपने कंटेंट को Internally Internal करके

आपकी जानकारी के लिए बता दू की आपकी वेबसाइट की ताकत केवल इस बात पर ही निर्भर नहीं करती की आपकी वेबसाइट कितनी अन्य वेबसाइट के साथ लिंक करती है बलिक इस चीज पर भी निर्भर करती है की आप ने स्वयं के कंटेंट को किस तरह से इंटरलिंक किया है।

आप यह कैसे सुनिश्चित करे की की आपकी आर्टिकल के लिए Internal Linking बिलकुल सही है?

Internal Iinking को सुनश्चित करने के लिए सबसे पहले आपको यह देखना होगा की आपके कंटेंट को वास्तव में कहा लिंक की जरुरत है। जहा भी जानकारी अधूरी दिखाई दे वहा लिंक के माध्यम से कमी को पूरा करने की कोसिस करे।

कहने का मतलब है की जिस भी लाइन के अर्थ को अपने पाठको को विस्तार में समझाना है उसे उससे सम्बंधित अपने अन्य कंटेंट से लिंक के द्वारा समझा सकते है।
और जब आपको लगे की अब कंटेंट का कोई भी ऐसा पार्ट नहीं बचा जो आसानी से समझा न जा सके तो अब वह कंटेंट आपके पाठको के लिए पढ़ने योग्य भी है और आपकी Internal Linking भी बिलकुल सही है।

और यदि आप अपनी Internal Linking को बढ़ावा देते है तो आपको सबसे बड़ा फायदा यह होगा की यूजर अधिक से अधिक समय आपकी वेबसाइट पर बिताएगा जिससे आपका बाउंस रेट भी कम होगा।

#15| अपने कंटेंट को Up-To-Date रखे

यदि आप अपने Keyword को हमेशा Top में रखना चाहते है, तो सबसे जरुरी है की आप अपने कंटेंट को Up-To-Date रखे।

गूगल हमेशा नई और ताज़ा जानकारी को पसंद करता है। और अगर कोई भी पुराना आर्टिकल रैंक नहीं कर रहा है तो उसे अपग्रेड करने का आपका विचार सबसे अच्छा है। उसे गूगल की नई अल्गोरिथ्म्स के अनुसार अपडेट करे।

पुराने कंटेंट को अपग्रेड करने के कुछ बेहतर तरिके -

  • मीडिया जैसे Images, Infographic, Videos का प्रयोग करे।
  • जो कंटेंट अब काम नहीं करता है उसे निकाले।
  • उस कंटेंट के बारे और रिसर्च करे और फिर लिखे।
  • नई सामग्री के साथ लिंक करे।

Social Media के माध्यम से Website Traffic Kaise Badhaye/Increase करे

#16| एक फेसबुक पेज बनाये और सुदाय का निर्माण करे

जब भी किसी वेबसाइट पर कभी भी अधिक ट्रैफिक लान का जिक्र आता है तो वहा सोशल मीडिया अपनी एक अलग पहचान बनता है, फिर चाहे वह बात आर्गेनिक ट्रैफिक की हो या पेड ट्रैफिक की, सोशल मीडिया दोनों में बहुत आगे है।

एक बहुत अच्छा सवाल है की ऐसा क्यों?
ऐसा इस कारण क्योकि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म यानि फेसबुक आज बहुत बड़ा प्लेटफॉर्म है जहा लोग हर वक़्त वर्तमान रहते है। और एक अच्छी खासी तादाद में रहते है।

तो ऐसे में अगर आप अपनी पोस्ट या आर्टिकल को सोशल मीडिया के माध्यम से लोगो के साथ शेयर करते है तो आपको इसका बहुत अच्छा फायदा होता है।

इसके लिए आपको अपना एक फेसबुक पेज बनाना होगा जिसके सहारे आप लोगो तक अपनी पोस्ट को पंहुचा सको। यदि आप जानना चाहते है क पॉरफेशनल फेसबुक पेज कैसे बनाये तो आप इस लिंक पर जाकर बहुत ही आसानी से इसे सीख सकते है।

जबकि सोशल मीडिया की व्यस्तता प्रत्यक्ष रूप से कोई रैंकिंग फैक्टर नहीं है, लेकिन सोशल मीडिया पर कंटेंट को शेयर करने की संख्या और बैकलिंक्स के बिच एक बहुत ही गहरा सम्बन्ध है।

EarnedLinks.com के अनुसार, social sharing एक वर्ष में किसी भी वेबसाइट लिंक को 245 % तक बढ़ने की क्षमता रखता है।

तो आज ही अपना एक फेसबुक पेज बनाये और उस पर ब्लॉग से सम्बंधित सामग्री साझा करे। उस पेज को कुछ इस तरह से लीड कीजिये की वेबसाइट की लीड के लिए डिज़ाइन किए गए CTA को जोड़कर वेबसाइट क्लिक्स के लिए इसे ऑप्टिमाइज़ करे।

फेसबुक पर कंटेंट साझा करने के लिए - सम्मोहक चित्रों का प्रयोग करे एवं फेसबुक वीडियोस का प्रयोग करे। क्योकि visual Elements जोड़ने से ज्यादा इंगेजमेंट मिलने की बहुत ज्यादा सम्भावना रहती है।

Leave a Comment